Showing posts with label CHAMUNDA DEVI. Show all posts
Showing posts with label CHAMUNDA DEVI. Show all posts

Thursday, April 15, 2010

CHAMUNDA TAMPLE


                                                 

चामुंडा देवी के मंदिर में 


       मैंने दिल्ली से पठानकोट के लिए 4035 धौलाधार एक्सप्रेस में रिजर्वेशन करा रखा था। डेट आने पर हम आगरा से दिल्ली की ओर रवाना हुए। मेरे साथ मेरी माँ और मेरी छोटी बहिन थी। हम थिरुकुरल एक्सप्रेस से निजामुद्दीन स्टेशन पहुंचे और एक लोकल शटल पकड़ कर सीधे नई दिल्ली। नईदिल्ली से हम मेट्रो पकड़ सीधे चांदनी चौक पहुंचे और वहां जाकर गोलगप्पे खाए । सुना चाँदनी चौक के गोलगप्पे काफी मशहूर हैं। चाँदनी चौक के पास ही पुरानी दिल्ली स्टेशन है जहाँ से हमें पठानकोट की ट्रेन पकडनी थी। हम स्टेशन पर पहुंचे तो ट्रेन तैयार खड़ी थी हमने अपना सीट देखी। मेरी बीच वाली सीट थी। उसे ऊपर उठा अपना बिस्तर लगा कर मैं तो सो गया और ट्रेन चलती रही। 

      सुबह जब आँख खुली तो ट्रेन मुकेरियां स्टेशन पर खड़ी थी। मैं जब तक स्टेशन पर उतरता तब तक ट्रेन ने सीटी दे दी । एक घंटा चलने के बाद ट्रेन पठानकोट पहुँच गई। पठानकोट उत्तर रेलवे का अंतिम एवं जंक्शन स्टेशन है जहाँ से अमृतसर , जालंधर ,जम्मू और जोगिन्दर नगर के लिए अलग अलग रेलमार्ग हैं । यह ब्रॉड गेज का आखिरी स्टेशन इससे आगे नेरो गेज की लाइन है जो काँगड़ा, बैजनाथ होते हुए जोगिन्दर नगर तक जाती है। इस रेल मार्ग का नाम काँगड़ा घाटी रेलवे है। पहले पठानकोट पर सभी गाड़ियाँ आती थी किन्तु अब जम्मू जाने वाली गाड़ियाँ चक्की बैंक से ही मुड़ जाती हैं और यहाँ रह जाती हैं कुछ गिनी चुनी ट्रेन। पठानकोट स्टेशन, ब्रॉडगेज के लिए कम नेरो गेज के लिए ज्यादा जाना जाता है । 

      हमने पहले सीधे चामुंडा जाने का प्लान बनाया । सुबह १० बजे ट्रेन पठान कोट से रवाना हुई और धीरे धीरे धरती से पहाड़ो की गोद में आ गई । सफ़र बड़ा ही रोमांचक था और मज़ेदार भी, छोटी सी ट्रेन और छोटे छोटे स्टेशन, हिमालय की वादियाँ और व्यास नदी का अद्भुत नजारा वाकई मन को मोह लेने वाला था। मेरा तो मन कर रहा था कि आगरा वापस ही न जाऊं यहीं रह जाऊं ,पर अपना घर अपना ही होता है ,चाहे कहीं भी चले जाओ असली सुकून तो अपने घर में ही मिलता है । शाम तलक हम चामुंडा स्टेशन पहुँच गए । यह एक सुन्दर और रमणीक स्टेशन है । 

      मुझे यहाँ के स्थानीय लोगो ने बताया कि पुरानी चामुंडा का मंदिर ऊपर पहाड़ो में है, वहां आने जाने में कम से कम दो दिन लगेंगे। माँ और बहिन की तरफ देखते हुए मैंने वहां जाने का विचार त्याग दिया पर आगे भविष्य में जाने का प्रण  जरुर कर लिया। हम नई चामुंडा देवी के मंदिर पर पहुंचे । यह एक सुन्दर और बड़ा मन्दिर है धार्मिक दृष्टि से भी और पर्यटन की दृष्टि से भी। यहाँ व्यास नदी एक सामान्य धरा के रूप में बहती है या यूँ कहिये की पहाड़ो से निकलकर धरती पर जा रही है । मंदिर को और रमणीक बनाने हेतु व्यास नदी पर एक पुल भी बनाया गया है ।

      देवी माँ के दर्शन करने के बाद हम नीचे वाले शिव मंदिर में भी गए। रात होने को थी अब खाने का ठहराने का प्रबंध भी करना था। हमे मंदिर ट्रस्ट की तरफ से एक बड़े हॉल में जगह मिल गई जहाँ हमने अपना आसन लगाया। पास में ही लेटे हुए कुछ श्रद्धालु कही जाने लगे उन्ही में से एक बुजुर्ग ने हमसे कहा कि खाना खा लिया या नहीं गर नहीं तो चलो हमारे साथ लंगर का समय हो गया है। मंदिर सर आधा किमी दूर लंगर भवन है जहाँ रात्रि नौ बजे लंगर चलता है। लंगर में हमें दाल चावल मिले। मैंने भरपेट भोजन किया और हॉल में आकार सो गया।

CHAMUNDA MARG RAILWAY STATION

RAILWAY STATION OF CHAMUNDA MARG

CHAMUNDA MARG

RIVER IN CHAMUNDA


CHAMUNDA TAMPLE

CHAMUNDA TAMPLE

CHAMUNDA TAMPLE












chamunda marg railway station

यात्रा के अगले भाग ......

  •  काँगड़ा मंदिर ( नगरकोट धाम )
  • ज्वाला देवी के मंदिर में