Showing posts with label बुंदेलखंड एक्सप्रेस से एक सफ़र. Show all posts
Showing posts with label बुंदेलखंड एक्सप्रेस से एक सफ़र. Show all posts

Sunday, September 1, 2013

PRAYAG GHAT


बुंदेलखंड एक्सप्रेस से एक सफ़र 

 
      मैं जब कभी किसी यात्रा पर जाता हूँ तो उसकी तैयारी महीने भर पहले से ही शुरू कर देता हूँ। अभी मैं अपनी राजस्थान यात्रा की तैयारी कर ही रहा था कि अचानक किशोरी लालजी का फोन आया,बोले भाई साहब इलाहाबाद चलना है। दरअसल किशोरीलाल जी मेरे बहनोई हैँ और नोयडा में नौकरी हैं, आज से दो साल पहले रेलवे का कोई फॉर्म भरा होगा आज उसी का कॉललैटर आया है। अब अचानक से किसी यात्रा की तैयारी करना मेरे लिए कोई कठिन काम नहीं था, बस मुश्किल था तो इलाहबाद जाने वाली किसी भी ट्रेन में उपलब्ध सीट का मिलना । 

पर मैंने उसका भी इंतज़ाम कर लिया था,  चाहे जो भी हो वेटिंग में यात्रा करना अपनी फितरत में नहीं है । रेलवे की परीक्षा होने के कारण, आगरा से इलाहबाद जाने वाली सभी ट्रेनों में वेटिंग थी ।मैंने टिकट ग्वालियर से इलाहाबाद जाने वाली बुंदेलखंड एक्सप्रेस में करवा लिया, जिसमें मुझे आरएसी मिली । 

हम आगरा कैन्ट स्टेशन पहुँचे । आज यहाँ और दिनों के हिसाब से काफी भीड़ थी, मेरे कुछ पैसे कुमार के पास थे, मैंने उसे फोन किया तो कुमार स्टेशन आ गया और गोवा एक्सप्रेस के आगे के गार्ड के कोच में स्टाफ के नाते बैठवा गया । कुछ  देर बाद हम में ग्वालियर में थे, आज बुंदेलखंड एक्सप्रेस काफी लेट थी। हमारा आरक्षण एक्स्ट्रा कोच में था। यह ट्रेन ग्वालियर से झाँसी होते हुए बाँदा, मानिकपुर होते हुए इलाहाबाद पहुंचती है। अपने सही समय पर इसने हमें इलाहाबाद पहुंचा दिया, इलाहाबाद के स्टेशन पर ट्रेन लगभग खाली सी हो गई थी, यह वाराणसी जा रही थी, इसलिए हम इलाहाबाद से आगे अगले स्टॉप पर उतरे , स्टेशन का नाम था प्रयाग जंक्शन । 

BUNDELKHAND EXPRESS ON PRAYAG JUNCTION

PRAYAG JUNCTION RAILWAY STATION

KC BREAKFAST ON PRAYAG STATION

       यह पुराना इलाहाबाद कहलाता है। प्रयाग से हम गंगा जी की तरफ निकल पड़े, गंगाजी का पानी इनदिनों काफी ऊपर तक आ चूका था, जिसकी वजह से लेटे हुए हनुमान जी का मंदिर, व गंगा जी सभी किनारे पूरी तरह से पानी में डूबे हुए थे । केसी ने एक नाव किराए पर ली और हम संगम पहुंचे । कहते हैं यहाँ तीन नदियों का संगम होता है गंगा, यमुना और सरस्वती । यहाँ गंगा और यमुना तो साक्षात बहती हैं परन्तु सरस्वती यहाँ कल्पनामात्र है।जिसके बारे में कहा जाता है कि वो यहाँ अदृश्य रूप से बहती है । 


GANGA RIVER, ALLAHABAD

GANGA

SANGAM OF GANGA AND YAMUNA

GANGA, YAMUNA SANGAM IN ALLAHABAD

SUDHIR UPADHYAY IN SANGAM BATH

ALLAHABAD FORT

KC AND SUDHIR UPADHYAY


DARAGANJ RAILWAY STATION


इलाहाबाद में सिर्फ नदियों का ही नहीं रेलवे का भी संगम होता है । इलाहाबाद जंक्शन तो उत्तर मध्य रेलवे का गढ़ है ही साथ ही यहाँ इलाहाबाद सिटी स्टेशन से वाराणसी  के मंडुआडीह जाने वाली लाइन पूर्व उत्तर रेलवे की प्रमुख विरासत है । यह रेल लाइन किसी समय में मीटर गेज हुआ करती थी । साथ ही हमें यहाँ एक स्टेशन और देखने को मिला प्रयाग घाट । यह उत्तर रेलवे का स्टेशन है जहाँ आज फ़िलहाल पटरियों में पानी भरा हुआ था। जिस कारण यहाँ से कोई भी ट्रेन टर्मिनेट नहीं होती ।


KC ON DARAGANJ RAILWAY STATION

PRAYAG GHAT RAILWAY STATION GATE

PRAYAG GHAT

PRAYAG GHAT RAILWAY PLATEFORM

PRYAG GHAT STATION LOOKING FROM DARAGANJ STATION

DARAGANJ

KC ON ALLAHABAD CITY RAILWAY STATION


M.P.GARG DEGREE COLLEGE, ALLAHABD



SAI TAMPLE IN ALLAHABAD


अगला भाग