Showing posts with label काँगड़ा वैली पैसेंजर ट्रेन यात्रा. Show all posts
Showing posts with label काँगड़ा वैली पैसेंजर ट्रेन यात्रा. Show all posts

Tuesday, June 18, 2013

काँगड़ा वैली पैसेंजर ट्रेन यात्रा



काँगड़ा वैली पैसेंजर ट्रेन यात्रा 

पठानकोट से ट्रेन सुबह दस बजे प्रस्थान कर चुकी थी , मैं और कुमार लेड़ीज कोच के दरवाजे पर बैठे हुए थे , कुमार पहली बार नेरो गेज की ट्रेन में बैठा था , गाड़ी की स्पीड और प्रकृति के नज़ारे देखकर उसे काफी प्रशन्नता हो रही थी, मेरे साथ आये सभी लोगों को जहाँ और जैसे जगह मिली घुस गए , ट्रेन में एक भी जगह  नहीं बची थी जो खाली हो । डलहौजी रोड के बाद  ट्रेन कंडवाल स्टेशन पहुंची , यह एक छोटा स्टेशन है यहाँ एक देवी माता का मंदिर भी है जिनका नाम है नागिनी माँ ।

ट्रेन में अधिकतर सवारियां लोकल ही थी जो नित्य प्रतिदिन इन ट्रेनों में सफ़र करते हैं अपने रोजमर्रा काम के लिए, यहाँ की स्त्रियाँ भी किसी से पीछे नहीं थी, वह भी इन ट्रेनों में सफ़र करती हैं, मेरे पीछे दो हिमाचली लेडिज खड़ी हुई थी जो आपस में हिमाचली भाषा में बातें कर रही थी, मैं सिर्फ उनके मुख की तरफ ही देख रहा था पर मेरी समझ से बाहर था कि वो क्या बातें कर रही थी ?  मैंने उनसे कहा कि आप हिमाचली बहुत अच्छी  बोलती हैं, वो खुश हुई और उन्होंने मुझसे पूछा कि आपकी समझ में आया कि हम क्या बात कर रहे थे। मैंने बड़े गर्व से उत्तर दिया - जी नहीं । सिर्फ आपके बोलने की स्पीड को नोटिस कर रहा था।

कुमार की बूआ जी को ट्रेन में जगह ना मिल पाने के कारण काफी परेशानी हो रही थी, वो भी इस यात्रा पर पहली बार ही आई थी, इससे पूर्व वह वैष्णोदेवी की यात्रा कर चुकी थी सो उनके मुख पर वहीँ की बड़ाई थी, पर मैं इंतजार में था कि अभी तो उन्होंने सिर्फ इस ट्रेन की यात्रा ही की है, असली नज़ारे तो अभी बाकी थे । दोपहर के समय ट्रेन काँगड़ा पहुंची, यहाँ काँगड़ा मंदिर के नाम से भी एक स्टेशन है जहाँ नगरकोट मंदिर जाने के लिए सीधा रास्ता है, यहाँ पर कई भक्तों का समूह उतर पड़ा फिरभी ट्रेन में जगह कम नहीं हुई , हमारा स्टॉप चामुंडा मार्ग था और हमें यहीं पहुँचाना था, यहाँ से दो स्टेशन और आगे था ।

कुछ देर में ट्रेन चामुंडा मार्ग पहुंची , यहाँ से चामुंडा देवी का मंदिर पांच किमी आगे है , स्टेशन बहुत ही साफ सुथरा और छोटा सा है. स्टेशन के ठीक सामने एक पहाड़ है और नीचे की तरफ एक छोटी सी नदी भी बहती है । यहाँ कुमार को लीची के पेड़ दिखाई दिए, दो चार तोड़ भी लाया लेकिन कच्ची थी ।


DALHOUSIE ROAD RAILWAY STATION

DALHOUSIE ROAD RAILWAY STATION

A RIVER

KANDWAL RAILWAY STATION

NURPUR ROAD RAILWAY STATION

TALARA RAILWAY STATION

KANGRA PASSENGER 

BALLE THA PIR LARATH RAILWAY STATION 

BOOKING OFFICE

जगह के अभाव के कारण, महिला कोच में बैठी महिलाएं  

KANGRA VALLEY RAILWAY ROUTE

BHARMAR RAILWAY STATION

JAWAN WALA SHAHAR RAILWAY STATION

JAWAN WALA SHAHAR RAILWAY STATION

KUMAR ON HARSAR DEHRI STATION 

हरसर देहरी स्टेशन पर यह तीसरा क्रोस था 

NAGROTA SURIYAN RAILWAY STATION

BARIYAL H.P. RAILWAY STATION

VIEW OF NANDPUR BHATOLI RAILWAY STATION

KANGRA VALLEY PASSENGER TRAIN



काँगड़ा वैली रेल मार्ग 


GULER RAILWAY STATION

VYAS RIVER

LUNSU RAILWAY STATION 

TRIPAL RAILWAY STATION

ज्वालामुखी रोड रेलवे स्टेशन , यहाँ से ज्वालादेवी का मंदिर पास में ही है 

कोपर लाहर रेलवे स्टेशन, इसी से मिलता जुलता एक और स्टेशन भी है कोपर गाँव 

काँगड़ा वैली रेल मार्ग का एक दृश्य 

दौलतपुर सुरंग , इस रेलमार्ग पर यही एक  सुरंग है जिसकी 327.44 मीटर है । 

काँगड़ा स्टेशन पर पैसेंजर ट्रेन 

KANGRA RAILWAY STATION

काँगड़ा मंदिर रेलवे स्टेशन , इसे नगरकोट धाम भी कहते हैं 


NAGROTA RAILWAY STATION
चामुंडा मार्ग स्टेशन पर स्थित पहाड़ 
CHAMUNDA MARG RAILWAY STATION

चामुंडा मार्ग स्टेशन पर पैसेंजर ट्रेन


काँगड़ा वैली पैसेंजर ट्रेन यात्रा के अगले भाग हैं -