Sunday, October 22, 2017

TARACHANDI DEVI - SASARAM



माँ ताराचंडी देवी शक्तिपीठ धाम

 इस यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

           मैं रात दो बजे सासाराम स्टेशन उतर गया था, यहाँ आकर स्टेशन पर बने एक बोर्ड पर मैंने देखा कि यहाँ ताराचंडी देवी का शक्तिपीठ धाम है। सासाराम के बारे में कहा जाता है कि यह महान ऋषि परशुराम की भूमि है। सहस्रराम, सहसराम, सासाराम = परशुराम। रात को तो  स्टेशन पर बने ब्रिज पर मैं सो गया परन्तु सुबह पांच बजे में उठकर देवी ताराचंडी की तरफ निकल गया। स्टेशन से इस दिव्यधाम की दूरी मात्रा पांच किमी ही है सोचा था पैदल ही नाप दूंगा।



         स्टेशन के बाहर पुराने जीटी रोड पर आकर मैंने चाय पी और रास्ता पूछ कर  तरफ रवाना हो लिया। सासाराम की गलियों में होते हुए मैं सागर नामक एक गांव पहुंचा।अब दिन भी निकल आया था और सूर्य निकलने के साथ ही मुझे कैमूर की पहाड़ियां भी दिखने लगीं थी। मैं ऐसे गांव से होकर निकल रहा था जिसे अबतक हम कलेंडरों और पोस्टरों में ही देखते आ रहे थे मतलब प्राकृतिक वातावरण से भरपूर गांव।

            मुझे अब यहाँ आकर मंदिर की दूरी ज्यादा लगने लगी थी। इसलिए एक ऑटो में बैठकर में मंदिर तक पहुँच गया था। यह मंदिर नेशनल हाईवे 2 पर स्थित है। यह वही हाईवे है जिसके किनारे यहाँ से हजारों किमी दूर मथुरा में मेरा घर भी पड़ता है। माँ ताराचंडी देवी का यह शक्तिपीठ धाम अति सुन्दर और प्राकृतिक वातावरण से भरपूर है। सुबह सुबह दुकान वाले अपनी दुकानों को खोल रहे थे। यहाँ आज एक दो भक्त ही दर्शन करते हुए मुझे मिले।

      मैं भी अपने  बैग को बाहर रखकर देवी माता के दर्शन करने को गया। देवी माता के साक्षात् दर्शन कर बैग उठाकर मैं पास में बाह रही एक नदी के किनारे पहुंचा। इस नदी में कमल के सफ़ेद व् गुलाबी फूल लगे हुए थे। अपने राष्ट्रीय पुष्प को देखकर मेरा मन काफी आनंदित हो उठा। कहाजाता है कि इस शक्तिपीठ की स्थापना सती की दाहिनी आँख के यहाँ गिरने के कारण हुई थी, भगवान परशुराम जब कैमूर में निवास कर रहे थे तो वह प्रतिदिन देवी की पूजा अर्चना करने यहाँ आते थे। उन्ही की पूजा अर्चना के कारण कैमूर की पहाड़ियों में स्थित यह धाम आज लोकप्रिय शक्तिपीठ धाम बन चूका है। नवरात्रों के दौरान यहाँ विशाल मेला भी लगता है और काफी दूर से भक्त माता के दर्शन करने के लिए यहाँ आते हैं।

हाईवे पर कुछदेर खडे रहने के बाद स्टेशन के लिए मुझे एक मैजिक मिल गई। मैजिक शेरशाह सूरी के मकबरे के सामने से गुजर रही थी जो की सासाराम की मुख्य ईमारत है। 


ताराचंडी देवी मुख्य प्रवेश द्धार 

ताराचंडी देवी मंदिर 



माँ ताराचंडी देवी 


कैमूर स्थित ताराचंडी मंदिर 



कमल के पुष्प 


एक नदी 

जय माँ ताराचंडी देवी 

नेशनल हाईवे स्थित कैमूर पर्वत 

कैमूर पहाड़ियां 

अगली यात्रा  -    शेरशाह सूरी मकबरा 

1 comment:

  1. मुझे भी अपनी पुरानी सासाराम यात्रा याद आ गई वह बहुत अच्छा लिखते हो लेकिन कम लिखते हो अपनी पोस्ट को थोड़ा सा बड़ा कीजिए ताकि पाठक ज्यादा देर तक उसे पढ़ें और कुछ और जानकारियां प्राप्त कर सकें । जानकारियों के लिए आप इंटरनेट का सहारा भी ले सकते हो ।

    ReplyDelete